सोमवार, 19 फ़रवरी 2018

एतदद्योनीनि भूतानि सर्वाणीत्युपधारय | अहं कृत्स्नस्य जगत : प्रभव : प्रलयस्तथा ||

 एतदद्योनीनि भूतानि सर्वाणीत्युपधारय | 

अहं कृत्स्नस्य जगत : प्रभव : प्रलयस्तथा ||   

सम्पूर्ण प्राणियों के  उत्पन्न होने में अपरा और परा -इन दोनों प्रकृतियों का संयोग ही  कारण  है -ऐसा तुम समझो। मैं सम्पूर्ण जगत का प्रभव तथा प्रलय हूँ। 

व्याख्या : अनंत ब्रह्माण्डों में स्थावर -जंगम ,थलचर -जलचर-नभचर ,जरायुज -अंडज -स्वेदज -उद्भिज्ज ,मनुष्य ,देवता ,गंधर्व ,पितर ,पशु ,पक्षी ,कीट ,पतंग आदि जितने भी प्राणी देखने -सुनने -पढ़ने में आते हैं ,वे सब अपरा और  परा -इन दोनों के माने हुए हुए संयोग से ही उत्पन्न होते हैं। अपरा और परा का संयोग ही सम्पूर्ण  संसार का बीज है। 

मैं सम्पूर्ण जगत का प्रभव तथा प्रलय हूँ -इससे   भगवान् का तात्पर्य है कि  मैं ही सम्पूर्ण संसार को उत्पन्न करने वाला हूँ और मैं ही उत्पन्न होने वाला हूँ ,मैं ही नाश करने वाला और मैं ही नष्ट होने  वाला हूँ ; क्योंकि मेरे सिवाय संसार का अन्य कोई भी कारण तथा कार्य नहीं है। मैं ही इसका निमित्त(Intelligent or Efficient Cause ) और उपादान कारण (Material Cause ) हूँ। 

भगवान् ही जगद रूप से प्रकट हुए हैं। यह जगत भगवान् का आदि अवतार है -'आद्योवतार :   पुरुष : परस्य '(श्रीमद्भगवद्गीता २/६ /४१ ) .आदि  अवतार    होने से जगत नहीं है ,केवल भगवान् ही है।

शनिवार, 17 फ़रवरी 2018

उद्धरेदात्मनात्मानं नात्मानमवसादयेत | आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुरात्मैव रिपुरात्मन : ||

उद्धरेदात्मनात्मानं   नात्मानमवसादयेत | 

आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुरात्मैव  रिपुरात्मन :  || 

अपने द्वारा अपना उद्धार करें , अपना पतन न करें क्योंकि आप ही अपना मित्र हैं  और आप ही अपना शत्रु हैं । 

व्याख्या :गुरु बनना या बनाना गीता का सिद्धांत नहीं है। वास्तव में मनुष्य आप ही अपना गुरु है। इसलिए अपने को ही उपदेश दे अर्थात  दूसरे में कमी न देखकर अपने में ही कमी देखे और उसे मिटाने की चेष्टा करे। भगवान् भी विद्यमान हैं ,तत्व ज्ञान भी विद्यमान है और हम भी विद्यमान हैं ,फिर उद्धार में देरी क्यों ? नाशवान व्यक्ति ,पदार्थ और क्रिया में आसक्ति के कारण ही उद्धार में देरी हो रही है। इसे मिटाने की जिम्मेवारी हम पर ही  है ; क्योंकि हमने ही  आसक्ति की है। 

पूर्वपक्ष: गुरु ,संत और  भगवान् भी तो मनुष्य का उद्धार करते हैं ,ऐसा लोक में देखा जाता है ?

उत्तरपक्ष : गुरु ,संत और भगवान् भी मनुष्य का तभी उद्धार करते हैं ,जब वह (मनुष्य )स्वयं उन्हें स्वीकार करता है अर्थात उनपर श्रद्धा -विश्वास करता है ,उनके सम्मुख होता है ,उनकी शरण लेता है ,उनकी आज्ञा का पालन करता है। गुरु ,संत और भगवान् का कभी अभाव नहीं होता ,पर अभी तक हमारा उद्धार नहीं हुआ तो इससे सिद्ध होता है कि हमने ही उन्हें स्वीकार नहीं किया। जिन्होनें उन्हें स्वीकार किया उन्हीं का उद्धार हुआ। अत : अपने उद्धार और पतन में हम ही हेतु हुए।  

रविवार, 28 जनवरी 2018

भाई रणवीर सिंह जी ने भारतीय नस्ल की गाय के संरक्षण के लिए ट्रेकटर के उपयोग को और बढ़ावा न देकर बैलों की जोड़ी द्वारा हल चलाने की परम्परा की ओर लौटने की बात की है। उनकी इस बात में जान है के आज भी भारत के अंदरूनी इलाकों में खेत जोतने का यह तरीका काम कर रहा है। मैं इससे सहमत हूँ दिल्ली से गोहाटी तक की रेलयात्रा में ही नहीं दिल्ली से केरल प्रदेश की यात्रा में भी ,दिल्ली चैन्नई ,दिल्ली मुंबई की यात्राओं में भी मैंने यही नज़ारा देखा है।चैन्नई से बंगलुरु और चैन्नई से पुडुचेरी यात्रा में यही देखा है। चैन्नई से तिरुपति यात्रा में भी।केरल के कन्नूर से ऊटी और उससे और आगे भी दृश्य यही है।

भाई रणवीर सिंह जी ने भारतीय नस्ल की गाय के संरक्षण के लिए ट्रेकटर के उपयोग को और बढ़ावा न देकर बैलों की जोड़ी द्वारा  हल चलाने की परम्परा की ओर  लौटने की बात की है। उनकी इस बात में जान है के आज भी भारत के अंदरूनी इलाकों में खेत जोतने का यह तरीका काम कर रहा है। मैं इससे सहमत हूँ दिल्ली से गोहाटी तक की रेलयात्रा में ही नहीं दिल्ली से केरल प्रदेश की यात्रा में भी ,दिल्ली चैन्नई ,दिल्ली मुंबई की यात्राओं में भी मैंने यही नज़ारा देखा है।चैन्नई से बंगलुरु और चैन्नई से पुडुचेरी यात्रा में यही देखा है। चैन्नई से तिरुपति यात्रा में भी।केरल के कन्नूर से ऊटी और उससे और  आगे भी दृश्य यही है। 

  परम्परा आकर्षित ही नहीं करती संरक्षण भी प्राप्त करती है अमरीका जैसे विकसित राष्ट्रों में जहां ऑर्गेनिक फार्म्स भी हैं ऑर्गेनिक खेती भी है उत्पाद भी हैं। किसानों से उपभोक्ता सीधे उत्पाद खरीदता है खेत में जाकर ,फारमर्स मार्किट में जाकर। 

गाय का संरक्षण भारतीय संस्कृति का ही नहीं खेती किसानी का भी संरक्षण साबित हो सकता है। यहां एक साथ ट्रेकर और बैलों से जुताई का काम हो सकता है। छोटी जोत वालों की हैसियत से बाहर ही रहा आया है ट्रेकटर। हिन्दुस्तान में किसी भी चीज़ को कम करने की ज़रूरत नहीं है संशाधनों के विकल्प बढ़ाते जाने की है। 

पर्यावरण की नव्ज़ भी गाय से जुड़ी  है। आखिर ट्रेकटर डीज़ल से ही चलता है बैल को डीज़ल पिलाने की जरूरत नहीं पड़ती है। पर्यावरण का मित्र है बैल। जलवायु का  ढ़ांचा इस दौर में टूटने के संकेत देने लगा है कोरल बीचिज़ का  सौंदर्य 

तेज़ी से विलुप्त होने लगा है उन क्षेत्रों से जो पर्यटन का केंद्र कोरल से ही बने थे। ध्रुवों पे बर्फ भी उतनी नहीं गिर रही है आइस शीट ओज़ोन कवच की तरह दुबला रही है। 

गाय इसके और क्षय को रोक सकती है अपने कर्मठ बेटों (बैलों )के योगदान को केंद्र में लाकर। गाय  बचेगी तभी उसका कुनबा बढ़ेगा। अभी तो दोनों को खतरा है। 

शनिवार, 27 जनवरी 2018

गणतंत्र दिवस की परेड में मेहमानों ,मंत्रियों सांसदों को आदर पूर्वक बिठाने का एक क्रम होता है। इत्तेफाक से वर्तमान लोकसभा में कोई भी पार्टी नेता प्रतिपक्ष का दर्ज़ा पाने लायक सांसद न प्राप्त कर सकी. क्योंकि कोई भी विपक्षी दल कुल लोकसभा सदस्यों की संख्या का दस फीसद भी प्राप्त नहीं कर सका। लिहाज़ा मायावती से राहुल तक सबका कद बराबर आंका जाना हर लिहाज़ से उचित ही कहा जाएगा।यह कांग्रेस (सोनिया )का अंदरूनी मामला है के पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए इस देश की सबसे पुरानी कही समझी जाने वाली पार्टी को (जिसे मातृ पार्टी भी एक मायने में कहा जा सकता है क्योंकि कालान्तर में अनेक लोग इससे छिटक कर अलग हुए और नए राजनीतिक दल अस्तित्व में आये )एक भी सभ्रांत योग्य सर्वस्वीकार्य गैर -जमानती व्यक्ति नहीं मिला। हमारा पार्टी के इस अंदरूनी मामले से कोई लेना देना नहीं है लेकिन उस भुक्तान करके लगवाई गई खबर से ज़रूर लेना देना है जिसके मुताबिक़ राहुल विन्ची (गांधी तो वह कहीं से हैं नहीं न जन्म से न संस्कार से ,वर्ण संकर हम उन्हें कहना नहीं चाहते क्योंकि अभी भी वह इस मामले में फ्लक्स में ही हैं )को राजपथ पर छटी कतार में बिठाना गैर -वाज़िब बतलाया गया।




संविधानिक संस्थाओं को तोड़ने का श्री गणेश इन्हीं राहुल की दादी साहिबा कर गईं थी। लेकिन इस बीच सरयू में काफी पानी बह चुका है -बिल्ली को फिर भी खाब में छिछड़े ही नज़र आ रहे हैं। खुदा खैर करे। ईश्वर इन नासमझो की भी हिफाज़त करे। जैश्रीकृष्णा जयश्रीराम जयहिंद की सेना प्रणाम ,जयभारत जय जय भारत जय तुझे सलाम।

गणतंत्र दिवस की परेड में मेहमानों ,मंत्रियों सांसदों को आदर पूर्वक बिठाने का एक क्रम होता है। इत्तेफाक से वर्तमान लोकसभा में कोई भी पार्टी नेता प्रतिपक्ष का दर्ज़ा  पाने लायक सांसद न प्राप्त कर सकी.   क्योंकि कोई भी विपक्षी दल कुल लोकसभा सदस्यों की संख्या का दस फीसद भी प्राप्त नहीं कर सका।

लिहाज़ा मायावती से राहुल तक सबका कद बराबर आंका जाना हर लिहाज़ से उचित ही कहा  जाएगा।यह कांग्रेस (सोनिया )का अंदरूनी मामला है के पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए इस देश की सबसे पुरानी कही समझी जाने वाली पार्टी को (जिसे मातृ पार्टी भी एक मायने में कहा जा सकता है क्योंकि कालान्तर में अनेक लोग इससे छिटक कर अलग हुए और नए राजनीतिक दल अस्तित्व  में आये  )एक भी सभ्रांत योग्य सर्वस्वीकार्य गैर -जमानती व्यक्ति नहीं मिला। हमारा पार्टी के इस अंदरूनी मामले से कोई लेना देना नहीं है लेकिन उस भुक्तान करके लगवाई गई खबर  से ज़रूर लेना देना है जिसके मुताबिक़ राहुल विन्ची (गांधी  तो वह कहीं से हैं नहीं न जन्म से न संस्कार से ,वर्ण संकर हम उन्हें कहना नहीं चाहते क्योंकि  अभी भी वह इस मामले में फ्लक्स में ही हैं )को राजपथ पर छटी कतार में बिठाना गैर -वाज़िब बतलाया गया।

अगर नेशनल हेराल्ड मामले से आप पाक साफ़ छूट जाते हैं और २०१९ में कोई कमाल कर दिखाते हैं तो ज़रूर आपको आगे की पंक्ति में बिठाने में हमें भी ख़ुशी होगी अभी तो आपके दल को पूर्व राष्ट्रपति भी राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का केन्द्रक बतला रहे हैं। जिसकी कोख से पूर्व में प्रसूत जनेऊ (जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय )पनप रहें हैं जो कन्हैया तत्व की पीठ थपथपा रहें हैं। नामशेष हो गए रक्तरंगियों के साथ दुरभि संधि करके वर्तंमान मुख्यन्यायाधीश पर महाभियोग लगाने का दिवास्वप्न देख रह हैं ये जानते हुए के मुंह की खायेंगे -लेकिन आज ये लोग गु खाकर  भी देश तोड़ने को तैयार हैं इनके पाले हुए कई आचार्य छात्रों को छद्म तरीके से बीफ(गौ मांस ) भरे हुए सैनविच परोसवा रहें हैं।

संविधानिक संस्थाओं को तोड़ने का श्री गणेश इन्हीं राहुल की दादी साहिबा कर गईं थी। लेकिन इस बीच सरयू में काफी पानी बह चुका है -बिल्ली को फिर भी खाब में छिछड़े ही नज़र आ रहे हैं। खुदा खैर करे। ईश्वर इन नासमझो की भी हिफाज़त करे। जैश्रीकृष्णा जयश्रीराम जयहिंद की सेना प्रणाम ,जयभारत जय जय भारत जय तुझे सलाम। 

FDA Panel Gives Qualified Support To Claims For 'Safer' Smoking Device(HINDI )

एक्स स्मोकर होने के नाते हमारा ऐसा मानना है ये जो ऐबदार शौक की चीज़ें होतीं हैं यहां फिसलन बहुत है। मैं कोरोनरी बाई पास ग्रेफ्टिंग से गुज़र चुका हूँ। रेड वाइन/वाइट वाइन  को लेकर भी हृदय रोगों के माहिर एक मत नहीं हैं मुझे चोटी के माहिरों से अनुदेश लेते रहने का सौभाग्य  प्राप्त है एस्कॉर्ट्स -फोर्टिस -एम्सआदि  -मायोट  होस्पिअटल चैन्नई के एक विशेषज्ञ ने मुझसे कहा -शर्मा साहब मैं ने अपनी  चालीस साला प्रेक्टिस में कभी भी किसी मरीज़ को वाइन लेने के लिए प्रेरित नहीं किया है वजह इसकी ये है आप कब वाइन से खुलकर रम पर आ जायेंगे इसका कोई निश्चय नहीं। 
बड़ी अजीब बात है जब आप जानते हैं के बीफ (गौ मांस )अनेक जीवन शैली रोगों की वजह बनता है तब यह निहायत बे -वक़ूफ़ी की बात है के आप इसको कम-हानिकारक पदार्थ बनाने के उपाय करें। धूम्रपान के मामले में भी यही बात लागू होती है ये सब बिक्री को बढ़ाने के हथ-कंडे होते हैं उस दौर में जब हम ग्रीन एनर्जी और पर्यावरण  -अपनी हवा पानी मिट्टी की गुणवत्ता को लेकर चिंतित हैं जलवायु परिवर्तन की आहट से आहत ही नहीं हैं अप्रत्याशित विनाश लीलाएं भी देख रहें हैं अपने बढ़ते कार्बन  फुटप्रिंट की वजह से  .ये पृथिवी भी एक ही है और हवा पानी मिट्टी भी इसकी सांझी है -फेफड़े सभी के पर्यावरण की तरह नाजुक हैं एक सिगरेट पीता है दूसरा उसे और उसके शौक के परिणाम भुगतता है सोशल टॉलरेंस के नाम पर। 
काहे भाई युवा भीड़ ,किशोर -वृन्द  को लती पदार्थ निकोटिन को आज़माने की बात कह रहे हो इस बिना पे के इससे उतनी हानि नहीं है। चस्का आज़माने का मौक़ा इसी युवा के पास है जो लत में कब बदल जाए इसका कोई निश्चय नहीं बस पहली सिगरेट सुलगाने की देर है। आगे आप सभी समझदार हैं जैसा आप उचित समझे माने बूझे गुने। 
A tobacco product that its maker claims to be safer than cigarettes won qualified support from a Food and Drug Administration advisory panel Thursday.
The advisers voted 8-1 to support cigarette giant Philip Morris' claim that its "iQOS"system "significantly reduces your body's exposure to harmful or potentially harmful chemicals." The device heats tobacco but doesn't ignite it.
But on the question of whether that approach translates into a reduction in the risk for tobacco-related diseases, the panel said the tobacco company's studies didn't demonstrate that. The vote was eight against, with one abstention.
Similarly, they said Philip Morris hadn't proved that reducing harmful exposure would necessarily "translate to a measurable and substantial reduction in morbidity and/or mortality." The vote was 5-2 against, with one abstention.
There was some support for the company's claims that "switching completely to iQOS presents less risk of harm than continuing to smoke cigarettes." But the measure failed on a vote of 4-5 against.
The FDA doesn't have to follow the advisory panel's advice but usually does.




During the two-day hearing, the company presented claims that iQOS poses less danger because the device heats tobacco, instead of igniting it, to produce an aerosol that contains 90 percent lower levels of dangerous chemicals than found in cigarette smoke.
If the agency grants the company's request and approves the product, iQOS would become the first tobacco product authorized by the FDA to be marketed as causing less harm than regular cigarettes.
Advocates and some smoking-cessation counselors urged the committee to endorse the product to make an alternative they consider to be safer available to millions of U.S. smokers. But some anti-smoking advocates question whether the device really is safer and fear it could hook more people on nicotine, including children.
Philip Morris argued the device would be exclusively marketed to smokers and estimates the iQOS could save 90,000 lives over 20 years in the United States.
"IQOS emits toxicants and is not risk-free," Manuel Peitsch, Philip Morris' chief scientific officer, said on the opening day of the hearing. "Nevertheless, iQOS emits significantly lower levels of toxicants than regular cigarettes. Switching to iQOS can significantly reduce the risk of disease compared to regular smoking."
The device could be more appealing to many smokers than electronic cigarettes because the iQOS heats tobacco instead of a liquid containing nicotine. That gives the user more of the taste and experience of regular cigarettes, the company argues.
Critics, however, questioned Philip Morris's safety claims.
"I think the whole thing is a scam," said Stanton Glantz, a prominent anti-smoking advocate at the University of California, San Francisco, to NPR before the hearing. "When you look at the actual evidence that Philip Morris has submitted to the FDA, it doesn't support the claim that these things are any better than cigarettes in terms of health effects in people."
Glantz noted that the tobacco industry has a long history of selling products that it claimed were safer, such as cigarettes marketed as "light," "mild" or "low-tar," that turned out to be just as dangerous.
"What we're seeing is just a replay of the old light and mild scam," Glantz said.
One study conducted in Switzerland found that while the iQOS produces many toxic chemicals at lower levels than cigarette smoke, some are higher than the company claims. Philip Morris disputes that research.
Some of the chemicals found are components of smoke, the researchers say. "We found lower concentrations of these compounds; however, we found them. And because we found them, we think this is smoke," Reto Auer, an assistant professor at the University of Bern in Switzerland who conducted the study, said in an interview before the hearing. "We disagree with the claim that it's smokeless. People should be aware there are still toxic substances in the iQOS."
Auer and Glantz's concerns were echoed by several people who spoke during a public comment period on the second day of the hearing.
The iQOS looks suspiciously similar to the most popular e-cigarettes among children, Matthew Myers, president of the Campaign for Tobacco-Free Kids, told the committee.
"It is high-tech. It is sleek. It is designed in exactly the way that would appeal to young people," Myers told the committee.
If the iQOS were approved, it could hook children and teenagers on nicotine, reversing the progress that has been made to reduce smoking among young people, Myers fears.
But most of the speakers at the hearing urged the committee to recommend approval to give smokers a potentially safer alternative to cigarettes. More than 36 million Americans currently smoke.
"There is no health threat that compares to smoking," said Hank Campbell, president of the American Council on Science and Health. "Even though we have been opposed to smoking for 40 years, we support these devices."
"Patients who smoke clearly need more tools to help them quit," said Jeff Fortenbacher, president and CEO of Access Health in Muskegon, Mich.
In an interview before the hearing, Jonathan Foulds, a professor of public health sciences and psychiatry at Penn State University, agreed.
"I think it's a step in the right direction for tobacco companies to be developing products that have the probability of being significantly less harmful than conventional cigarettes," Foulds says.
Philip Morris is already selling iQOS in more than 30 countries and argued there was no evidence it was enticing children to use the product or start smoking. In fact, the company said, cigarette smoking had dropped dramatically since the device was introduced in Japan.
The iQOS consists of several parts. One part is called a "heatstick," which is made from compressed wads of tobacco. If approved, three versions would be sold: Marlboro HeatSticks, Marlboro Smooth Menthol HeatSticks and Marlboro Fresh Menthol HeatSticks.
The iQOS device is reusable, but the heatsticks are not.
Users would insert a heatstick into a holder that has a blade that penetrates the middle of the tobacco wad. When the user presses a button, the blade heats the tobacco to temperatures only capable of producing an aerosol that contains nicotine, according to the company.
The tobacco never gets hot enough to combust, according to Philip Morris. Burning tobacco produces far greater levels of potential toxic substances than just heating it, the company says. The devices stay on for six minutes or 14 puffs, whichever comes first, before shutting off automatically.
Philip Morris hasn't said how much the device would cost in the United States. But in Japan, the device sells for about $80, and a pack of heatsticks costs about the same as a pack of cigarettes.
The FDA advisory committee's recommendation Thursday pertains only to the company's claims about the safety of the product. Philip Morris would still have to get the FDA to sign off on a separate application to actually sell the devices in the United States for the first time.
The hearing comes after the FDA announced plans to eventually reduce the amount of nicotine in regular cigarettes in the hopes of weaning more Americans off cigarettes. As part of that effort, the FDA has said the agency hopes to offer more alternative sources of nicotine that would be safer than cigarettes.
Separately, the FDA has begun reviewing the safety of electronic cigarettes. Those devices heat fluid containing nicotine to produce a vapor that users inhale. E-cigarettes have become increasingly popular, especially among young people. The growth in use has alarmed many public health experts.
While e-cigarettes may be safer than regular cigarettes, experts say e-cigarettes aren't completely safe and fear they are hooking a new generation of children on nicotine and acting as a gateway to traditional cigarettes.
https://www.npr.org/sections/health-shots/2018/01/25/580213742/fda-panel-gives-qualified-support-to-claims-for-safer-smoking-device?utm_source=npr_newsletter&utm_medium=email&utm_content=20180125&utm_campaign=breakingnews&utm_term=nprnews

शुक्रवार, 26 जनवरी 2018

दोस्तों इस कथानक को पढ़कर आपको ऐसा ज़रूर लगेगा के संजय लीला भंसाली की फिल्म का शीर्षक पद्मावत क्यों रखा गया अलाउद्दीन खिलजी का पाश्चाताप क्यों नहीं रखा गया। जिसके हाथ सिर्फ आखिर में शहीद प्रेमियों की राख ही लगती है और जो अपने लम्पट मन की गुलामी करते -करते आखिर में ग्लानि से भर आता है और कहता है मनुष्य की वासनाएं अन्नत हैं स्थाई हैं इनका कोई अंत नहीं जबकि ये कायनात खुदा की यह सृष्टि एक मृगमरीचका है माया है छलना है। अफ़सोस यह जान ने से पहले ही वह सुपुर्दे ख़ाक हो जाता है। वह अपनी जीत पर पाश्चाताप करता है। पद्मिनी और नागमणि और राजा रत्न सेन की ख़ाक उसकी मुठ्ठी में होती है।

दोस्तों इस कथानक को पढ़कर आपको ऐसा ज़रूर लगेगा के संजय लीला भंसाली की फिल्म का शीर्षक  पद्मावत क्यों रखा गया अलाउद्दीन खिलजी का पाश्चाताप क्यों नहीं रखा गया। जिसके हाथ सिर्फ आखिर में शहीद प्रेमियों की राख ही लगती है और जो अपने लम्पट  मन की गुलामी करते -करते आखिर में  ग्लानि से भर आता है और कहता है मनुष्य की वासनाएं अन्नत हैं स्थाई हैं इनका कोई अंत नहीं जबकि ये कायनात खुदा की यह सृष्टि एक  मृगमरीचका है माया है छलना है। अफ़सोस यह जान ने से पहले ही वह सुपुर्दे ख़ाक हो जाता है। वह अपनी  जीत पर पाश्चाताप करता है। पद्मिनी और नागमणि और राजा रत्न सेन की ख़ाक उसकी मुठ्ठी में होती है।

"Queen Nagmati rashly asks her new parrot who is more beautiful, she or his former owner Princess Padmini of Sri Lanka. Naturally, she gets a displeasing answer." An illustrated manuscript of Padmavat, c. 1750[1]
Padmavat (or Padmawat) is an epic poem written in 1540 by Sufi poet Malik Muhammad Jayasi,[2] who wrote it in the Hindustani language of Awadhi,[3][4] and originally in the Persian Nastaʿlīq script.[5] It is the oldest extant text among the important works in Awadhi.[6] A famous piece of Sufi literature from the period, it relates an allegorical fictional story about the Delhi Sultan Alauddin Khalji's desire for the titular Rani Padmini, the Queen of Chittor.[7] Alauddin Khalji and Padmini's husband Ratan Sen are historical figures, whereas Padmini is a fictional character, though this is disputed.[8]

Plot[edit]

Rani Padmini, the princess of the Singhal kingdom, is close friends with the talking parrot Hiraman. Her father disapproves of their closeness, and orders the parrot to be killed. The parrot flies away to escape the punishment, but is captured by a bird catcher, and ultimately ends up as a pet of the Chittor ruler Ratansen.[9]
Inspired by the parrot's description of Padmini's beauty, Ratansen decides to visit the Singhal kingdom. Joined by his 16,000 vassals and princes, and with the parrot as his guide, he reaches Singhal after crossing the seven seas. There, he tries to win Padmini by performing austerities in a temple. Informed by the parrot, Padmini visits the temple and returns without meeting Ratansen, although she begins to long for him. Meanwhile, at the temple, Ratansen decides to commit suicide for having missed her.[9] The deities Shivaand Parvati intervene, and Shiva advises him to attack the fortress of Singhal.[10]
Disguised as ascetics, Ratansen and his followers attack the fortress, but are captured by Gandharvsen. As Ratansen is about to be executed, his bard reveals his identity. Gandharvsen then marries Padmini to Ratansen, and also arranges 16,000 padmini women for his companions.[10] (Padmini is best among the four types of women, typically found only in Singhal.[11])
As Padmini and Ratansen consummate their marriage in Singhal, Ratansen's first wife Nagmati longs for him in Chittor. She uses a bird to send a message to Singhal, following which Ratansen decides to return to Chittor. Ratansen has excessive pride in being married to the most beautiful woman on the earth, for which he is punished by a sea storm during the return journey. He and Padmini are rescued by the Ocean, but all their followers die in the storm. Lakshmi, the daughter of the Ocean, tests Ratansen's love for Padmini by appearing before him disguised as Padmini. Ratansen passes the test, and is rewarded with gifts by the Ocean and Lakshmi. With these gifts, he recruits a new entourage at Puri, and returns to Chittor.[10]
In Chittor, Padmini and Nagmati rival for Ratansen's attention. Initially, he placates them by spending nights with them alternately, but then establishes peace by reprimanding them. Meanwhile, he banishes the Brahmin courtier Raghav Chetan for fraudulently winning a contest. Padmini gifts Raghav her bangle in order to placate him.[10]
Raghav goes to the court of Alauddin Khalji in Delhi. When asked about the bangle, he describes the unmatched beauty of Padmini.[10] Alauddin then besieges Chittor, and demands Padmini for himself. Ratansen rejects the demand, offering to pay a tribute instead. Alauddin rejects the offer, and the siege continues. Finally, as part of fresh terms of peace, Ratansen invites Alauddin as a guest inside the fort, against the advice of his vassals Gora and Badal. Alauddin deceitfully catches a glimpse of Padmini, captures Ratansen, and returns to Delhi.[11]
Padmini asks Gora and Badal to help her free Ratansen. The two men and their followers enter the fortress of Delhi, disguised as Padmini and her companions. They free Ratansen, but Gora is killed fighting during the escape, while Badal takes Ratansen to Chittor.[11]
During Ratansen's absence, the Kumbhalner ruler Devpal proposes marriage to Padmini. On his return, Ratansen learns about this insult, and decides to punish Devpal. In the ensuing single combat, Ratansen and Devpal kill each other. Nagmati and Padmini commit suicide by sati (widow's self-immolation) on Ratansen's pyre. Meanwhile, Alauddin's army reaches Chittor. Facing a certain defeat, the women of the fort commit suicide by jauhar (mass self-immolation), while the men fight to death. Alauddin captures an empty fortress, thus denied victory.[11]
The victorious Alauddin reflects on his Pyrrhic victory, and the nature of insatiable desire. He picks up the ashes of Ratansen and his wives Padmini and Nagmati, lamenting that he "wanted to avoid this". Alauddin continues, "Desire is insatiable, permanent / but this world is illusory and transient / Insatiable desire man continues to have / Till life is over and he reaches his grave."[12]

गुरुवार, 25 जनवरी 2018

श्रवण मंगलम ,ज्ञान मंगलम ,दृश्य मंगलम दीदार मंगलम(IT IS HARD TO LISTEN WHEN YOU CAN'T HEAR (HINDI II )


 बीस साल से कम उम्र के ज्यादातर लोग श्रव्य -सीमा की अधिकतम आवृत्ति वाली बीस हज़ार साइकिल प्रतिसेकिंड की ध्वनि सुन लेते हैं। लेकिन उम्र के साथ श्रवण  ह्रास, श्रवण क्षय का कारण श्रवण (कान )की प्रत्यास्थता इलास्टिसिटी का क्षय होना है ,उम्रदराज़ होते जाने की एक स्वाभाविक प्रक्रिया का अंग है ,तो भी पचास साला लोग १२,००० साइकिल प्रतिसेकिंड से ऊपर तक की ध्वनियाँ आराम से सुन लेते हैं। 

क्योंकि बातचीत का सामान्य व्यवहार अमूमन २६० साइकिल प्रतिसेकिंड की ध्वनियों के आसपास ही रहता ही इसलिए पचास साला लोगों को कोई श्रवण सम्बन्धी बाधा यूं पेश नहीं आती है। 

किसी भी आवाज़ को सही दिशा में कान देने का हमारा गुण इस तथ्य से संचालित रहता है के हमारा कान यदि आवाज़ का स्रोत हमारे दाहिने और है तो दायां कान बाएं की अपेक्षा इस ध्वनि  को ०.००० १ सेकिंड पहले (एक सेकिंड का दस -हज़ारवां  भाग पहले )सुन लेगा। आखिर हमारे दोनों कानों के बीच फांसला भी तो है हमारी दोनों  आँखों की तरह। 

और इसी से हम कयास लगा लेते हैं दूर से आती किसी बैंड बाजे की आवाज़ का के वह किस दिशा से आ रही है। अलबत्ता यदि आप मुड़के उसी तरफ देखने लगे तब आपके दोनों कानों तक आवाज़  एक साथ ही पहुंचेगी जैसे सामने से आती कोई आवाज़ के लिए कयास नहीं लगाना  पडता है यह वैसे ही है। 

क्या आप जानते हैं आपको सबसे ज्यादा दिलचस्पी अपनी  आवाज़ को ही सुनने में होती है क्योंकि उसे आप सुनते हैं सुनना चाहते भी है चाव से।  
अपनी आवाज़ आप वायु के उन कम्पनों द्वारा ही नहीं सुनते हैं जो आपके कान तक पहुँचते हैं ,खोपड़ी से होते हुए अस्थि के चालन द्वारा यानी बोन कंडक्शन भी एक मोड  बनता है आपके श्रवण  का लेकिन तब जब आप अपनी ही आवाज़ सुनते हैं। चाहे वह आपके कुछ खाने पीने  सटकने से ही पैदा हो रही है या कोई कुरकुरी चीज़ खाने चबाने से। दांत के नीचे  किरकरी आने पर आपको कैसा विचित्र आभास और अनपेक्षित अप्रत्याशित आभास होता है ये आप तब महसूस करते हैं जब दाल में  खाना खाते वक्त कोई कंकरी निकल आती है। यही वजह है कई मर्तबा आप अपनी ही रिकार्ड की गई आवाज़ सुनकर हैरानी जतलाते हैं। क्योंकि इसमें बोन कंडक्शन सम्प्रेषण शामिल नहीं है आवाज़ का। अपनी ही आवाज़ की गमक और हुमक ,अनुनाद आपकी खोपड़ी कपाल से होकर ही आरही है निम्न आवृति की ध्वनियों से।रिकार्डिंग में यह नदारद रहती है। इसीलिए रिकार्ड की गई  आवाज़ वीक प्रतीत होती है आपको। 

और इसीलिए रिकार्ड की गई आवाज में वह जान भी नहीं होती है  अलबत्ता आजकल उसे संशोधित करने वाली अनेक विधियां और साधन संशाधन रिकार्डिंग तामझाम मॉडुलेटर तमाम किस्म के  आ गए  हैं। 

अफसोसनाक है श्रवन -क्षय आइंदा और भी बढ़ता जाएगा व्यस्त्तता बढ़ने के साथ सिटी नॉइज़ में इज़ाफ़ा होते जाने के साथ। 

आज की स्थिति पर गौर करते हैं ये बताने के साथ के आज भी हम अपने परिवेश से आती अनेक प्रकार की  ध्वनियाँ  सुनने को राजी  नहीं हैं जो हमारे काम की और ज्ञानवर्धक भी हो सकती हैं उपयोगी भी। क्योंकि हम थके मांदे रहते हैं। 

युवाभीड़ की स्थिति क्या है ?  

आपने अक्सर देखा होगा बातचीत के दौरान लोगों को कहते सुनते -'भाई साहब आपने क्या कहा था मैं मिस कर गया मेरा ध्यान कहीं और था या फिर ये के यार थोड़ा वॉल्यूम बढ़ा दो टीवी का कुछ पल्ले नहीं पड़  रहा है।'

श्रवण ह्रास ही है यह। एक अनुमान के अनुसार इस श्रवण -क्षय(हियरिंग लोस ) से इस समय तकरीबन चार करोड़ अस्सी लाख अमरीकी वयस्क (बालिग़ ,एडल्ट )ग्रस्त हैं।  
कुछ बढ़ती उम्र के साथ हमारे लाइलाज पुराने पड़  चुके रोग भी इसके लिए कुसूरवार ठहरते हैं तो खासकर जीवनशैली रोग (दिल की बीमारियां ,हाई ब्लडप्रेशर ,डायबिटीज आदि )जिनके चलते हमारे श्रवण उपकरण कानों की ओर  पूरा रक्त या तो नहीं पहुँच पाता  है या सर्कुलेशन कमज़ोर हो जाता है। इससे श्रवण निर्बाध नहीं रहता है। इन रोगों के इलाज़ से भी नुकसानी ही उठानी पड़ती है कानों को इसकी भी कीमत चुकानी पड़ती है। 

बिना नुश्खे के तथा नुश्खे वाली  दो  सौ  से ज्यादा प्रिक्रिप्शन दवाएं कानों पे भारी पड़  रहीं हैं इनमें मूत्रल दवाएं (diuretics ),एंटीबायोटिक्स यहां तक के जीवन रक्षक एस्पिरिन भी शामिल है। इन दवाओं से अंदरूनी कान असरग्रस्त हो सकता है। 

अपने चिकित्सक से  भले निस्संकोच पूछिए क्या मैं जो दवाएं ले रहा हूँ वह मेरी श्रवण  शक्ति को प्रभावित करेंगी।

युवा भीड़ का हाल यह है के आज जितने युवा किशोर -किशोरियां एअरबड्स  और हेडफोन्स लगाए घूम रहें हैं उनसे पैदा तेज़ आवाज़ कानों पे भारी पड़  रही है। इस वक्त गत दशक की बनिस्पत तीस फीसद ज्यादा युवा  नॉइज़ से पैदा श्रवण ह्रास से ग्रस्त हैं। बढ़ता डेसिबेल लेवल उनके कानों को कुतर रहा है। 

इससे बचने के उपाय आज़माने चाहिए। फिर चाहे वह घास काटने वाले उपकरण हों या आइस की शवलिंग करने के लिए प्रयुक्त तामझाम हो कानों का बचाव ज़रूरी है। आईपॉड का संगीत अच्छा लगता है मगर किस कीमत पर। आज ऐसे डेसिबेल मीटर उपलब्ध हैं जो आपके स्मार्ट फोन को साउंड मीटर में तब्दील कर देते हैं  . आप भांप लेते हैं डेसिबेल से पैदा खतरों को। चर्च का संगीत (डेसिबेल लेवल इस संगीत का ) भी सुरक्षित नहीं माना गया है।एयरप्लग्स ,नॉइज़  केंसलिंग  हेडफोन्स भी आज उपलभ्ध हैं।वैक्यूम क्लीनर ,स्नोब्लोवर के इस्तेमाल के दौरान इन्हें पहन लीजिये। श्रवण के माहिरों की यही सलाह है। बचाव में ही बचाव है। 

एक सक्षम भरोसेमंद कान के बिना दृश्य जगत की जानकारी अधूरी ही रह जायेगी। संगीत सुनते वक्त टीवी देखते वक्त थोड़ी आवाज़ कम कर लीजिये धीरे -धीरे यही अच्छा लगने लगेगा।इस दूसरी क़िस्त में फिर से दोहरा दें -जीवन और जगत और अध्यात्म का ज्ञान प्राप्त करने के लिए भी श्रवण एक बेहद ज़रूरी खिड़की है।

श्रवण मंगलम ,ज्ञान मंगलम ,दृश्य मंगलम दीदार मंगलम।